स्वतंत्रता दिवस की 70वीं वर्षगांठ

स्वतंत्रता दिवस की 70वीं वर्षगांठ पर पेश हैं हिन्दी सिनेमा के ऐसे अमर गीत, जिनसे हम सब किसी न किसी क्षण पर आंदोलित होते रहे हैं. स्वाधीनता संग्राम के शहीदों को नमन करते हुए पेश हैं ये गीत-
1- आज हिमालय की चोटी से फिर हमने ललकारा है
2- आओ बच्चों तुम्हें दिखाएँ झांकी हिंदुस्तान की
3- मेरे देश की धरती
4-हर करम अपना करेंगे
5- नन्हा मुन्ना राही हूँ
6- छोड़ो कल की बातें
7- इन्साफ की डगर पर
8- दे दी हमे आजादी बिना
9- ऐ वतन ऐ वतन
10- मेरा रंग दे बसंती चोला
11- आरम्भ है प्रचंड बोल
12- नन्हें मुन्ने बच्चे तेरी मुट्ठी मैं क्या है
13- भारत हमको जान से प्यारा है
14- अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों
15- है प्रीत जहाँ की रीत सदा
16- जिस देश में गंगा बहती है
17- कदम कदम बढाये जा
18- जहाँ डाल डाल पर सोने
19- ऐ मेरे प्यारे वतन
20- जय जननी ने भारत माँ
21- आई लव माय इंडिया
22- ऐसा देश है मेरा
23- अपनी आजादी को हम हर्गिज़ मिटा सकते नही
24- हम लाये हैं तूफ़ान से कश्ती निकाल के
25- सरफरोशी की तमन्ना
26- कन्धों से मिलते है कंधे
27- यह देश है वीर जवानों का
28- मेरे दुश्मन मेरे भाई
29- यह जो देश है मेरा
30- बढ़ते चलो, बढ़ते चलो, बढ़ते चलो जवानो
31- रघुपति राघव राजाराम
32- ऐ मेरे वतन के लोगों
33- फिर भी दिल है हिन्दुस्तानी
34- देश रंगीला रंगीला देश मेरा रंगीला
35- मेरा मुल्क मेरा देश मेरा ये वतन
36- दुल्हन चली हाँ पहन चली तीन रंग की चोली
37- जिंदगी मौत न बन जाए संभालो यारों
38- वतन वालों वतन न बेच देना
39- माँ तुझे सलाम
40- एक साथी और भी था
41- सुनो गौर से दुनिया वालों
42- अब कोई गुलशन न उजड़े
43- अमर है झाँसी की रानी
44- ऐ वतन के नौजवां
45- भारत के नौजवानों भारत के काम आओ
46- चक दे चक दे इंडिया
47- भारत शोभा में है सबसे आला
48- बिगुल बज रहा आज़ादी का गगन गूँजता नारों से
49- देखो वीर जवानों अपने खून पे ये इल्जाम न आए
50- गंगा मेरी माँ का नाम बाप का नाम हिमालय
51- वतन पे जो फ़िदा होगा अमर वो नौजवां होगा
भारत की अजादी की सत्तरवीं सालगिरह को सलाम करते हुए गूगल ने भारत की संसद की पृष्ठभूमि में पेश किया चित्र आपकी नजर है. जय हिन्द, जय हिन्द की सेना.
L

Comments

Popular posts from this blog

हिन्दी सिनेमा में गाँव और लोकजीवन

किन्नर विमर्श : समाज के परित्यक्त वर्ग की व्यथा कथा

कौन कहे? यह प्रेम हृदय की बहुत बड़ी उलझन है